शनिवार, फ़रवरी 26, 2011

मैं ·कुछ नहीं बनाती हूं तो लगता है अपराध कर रही हूं

नए स्वर


इस ·कालम में हम युवा और मेन स्ट्रीम से अलग रहने वाले युवा कलाकारों को लेते हैं। अगर आप·े स्·ूल-·ॉलेज, ऑफिस या आसपड़ोस में ·ोई ऐसा ·ला·ार नजर आता है तो हम आप·ी सूचना ·ा स्वागत ·रेंगे। सूचना ·े लिए प्लीज निम्न नम्बर पर ·ॉल या मेल ·ीजिएगा -



$

गज़ल श्रीवास्तव से

स्टूडेंट सागर इंंस्टीट्यूूट 



मैं ·कुछ नहीं बनाती हूं तो लगता है अपराध कर रही हूं



$गज़ल श्रीवास्तव ने यूं तो ड्राइंग पेंटिंग की ·कोई शिक्षा नहीं ली है, ले·किन वे अपने ड्राइंग ·के प्रति इस हद तक· समर्पित हैं कि उन्हें ड्राइंग न बनाना एक· अपराध लगने लगता है। खुद के प्रति किया गया अपराध। आटोबायोग्राफी और मोटिवेशनल बुक्स पढऩे ·की शौ·कीन गज्रल से बातीचीत ·के ·कुछ अंश।



मैं एक· लापरवाह ·कला·कार हूं। मैंने न तो ·हीं सीखा है और न ही घोषित ·कला·कार होने ·की ·कोशिश ·रती हूं। अगर ·कोई यूं ही पूछ ले या ·काम ·की तारीफ ·करे तो अच्छा लगता है। मेरी अधि·कांश पेंटिंग मेरे दोस्त लोग ही ले गए हैं। जिस·को जो अच्छा लगा, वह रखने ·के लिए मांगता और मैं दे देती।

मैं समझती हूं इतना ·काफी है। ·कोई ये जरूरी नहीं ·ि क हम ·ला·कार होक·र जिंदगी गुजारें। मैं पेंटिंग बनाती हूं बस इतना ही ठीक· है मेरे लिए।



बचपन से लगने लगा था

पेंटिंग ·रने या बनाने ·का शौ· मेरे मन में बचपन से ही था। थोड़ा थोड़ा याद है, मैं ·कुछ भी बनाती थी। मेरी ·कॉपियां स्·केच से भरी रहती थीं। ऐसे ही बनाते बनाते दोस्तों ·के अनुसार ·कुछ अच्छा बनाने लगी। पर मैं नहीं मानती ·कि मैं अच्छा बनाती हूं।



न्यूजपेपर से बहुत सीखा

मैंने ·कोई बड़ी या महान ·किताबें नहीं पढ़ी हैं। हां ए·क दोस्त ने ·कहा था ·कि द हिंदू में बहुत अच्छा मैटर पेंटिंग पर आता है। मैं अक्सर उस·को पढ़ क·र ही ·कुछ समझने कीकोशिश क·रती रही हूं।



·कैसे बनाती हूं

मेरे अंदर ए· तड़प सी जन्म लेती है। मैं बेचैन होने लगती हूं और मुझे पता चलने लगता है ·ि अब मुझे ·ुछ बनाना है। बैठ जाती हूं और ·ोशिश ·रती हूं ·कि एक· ही सिटिंग में सब ·कुछ पूरा हो जाए। मैं एक· सिटिंग में पूरा ·कर भी लेती हूं।



·कछ नहीं सोचती

बनाते हुए सोचती नहीं हूं। बनाने से पहले ए· दिन सोचती हूं और दूसरे दिन बस बनाती हूं। ·भी बिल्डिंग देख ·र बनाने ·की इच्छा होती है। ·भी ·कोई नेचर ·का हिस्सा देख ·कर बनाती हूं। जैसे ही अटैच होती हूं लगता है अब ·कुछ बना लेना चाहिए। यह प्र·किया निरंतर चलती रहती है।



रंगों ·के बारे में क्या

रंगों ·के बारे में बताऊं तो मुझे दो रंग पसंद हैं। ·काला और सफेद। ये दो रंग।



मैं पढ़ ·कर नहीं देख ·कर बनाती हूं

मैं अक्सर सोचती हूं ·कि मैं क्यों बनाती कहं तो इस·का ·कोई उत्तर नहीं मिलता है। ·कुछ बच्चों ·को सूरज डूबते देख लिया तो लगता है अब ·कुछ बना लूं।



नेचर पसंद है

नेचर ·के बारे में मैंने नहीं सोचा ·कि वह मुझे क्यों पसंद हैं या अच्छे क्यों लगते हैं। जब भी ·िसी पेड़ों ·के आसपास होती हूं या समुद्र ·के ·किनारों पर तो ·कुछ पॉजिटिव महसूस होता है। अच्छा लगता है। मैंने नेचर में निगेटिव नहीं महसूस ·किया। हां ·कॉलेज ·की भीड़ ·के पास मैंने महसूस ·किया है ·कि ·कुछ निगेटिव है।



3 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अच्छा होता अगर इस पोस्ट पर लिंक भी होते!