बुधवार, अप्रैल 22, 2009

मेरी धरती का एक दृश्य





धूप के खूबसूरत टुकड़े पिघलने के लिए
कोई भी जगह हो सकती है
उसके तन पर एक जगह है
जहाँ रखे जा सकते हैं ओंठ
जहाँ रखे जा सकते हैं कुछ लफ्ज
एक सुंदर तस्वीर की तरह
गहरे सुनहरे हो रहे हैं मन के रंग
किरणें रंग रही हैं हर चीज

तस्वीर में एक लड़की बैठी है
अकेली निरंतर किसी तेज सफर में
शांति और गति का संगम है
उसका चेहरा दुनिया का अकेला सूर्यमुखी है

विशाल पलकें फूल खिलने की तरह उठती हैं
जीवन के सूर्योदय जैसी गतिविधियाँ
उसके ओंठ धरती के रसों को सम्हाले
उसकी लालिमा जैसे शताब्दियों के सूर्योदय
यह मेरी धरती का दृश्य है
मैं चल रहा हूँ इस पर ...

ravindra swapnil prajapati

bhopal mp

1 टिप्पणी:

विनय ने कहा…

I am amazed you're a great poet.